ANM kya hota hai | ANM क्या होता है? | ANM कोर्स की सम्पूर्ण जानकारी

एएनएम (ANM) का मतलब होता है “ऑक्सिलरी नर्सिंग मिडवाइफरी”। यह एक प्रशिक्षण होता है जो नर्सिंग की एक छोटी सी पदवी होती है जिसमें छात्रों को स्वास्थ्य सेवा के क्षेत्र में तैयार किया जाता है। यह प्रशिक्षण मुख्यतः गाँवों और छोटे शहरों में स्वास्थ्य सेवा को पहुंचाने के लिए दिया जाता है। इसमें स्कूलों, स्वास्थ्य केंद्रों, गरीबी से प्रभावित क्षेत्रों में समुदायों में जाकर स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने की तैयारी की जाती है। इस आर्टिकल में हम ANM kya hota hai इसके बारे में और विस्तार से जानेगे।

1) एएनएम क्या होता है? (ANM kya hota hai)-

एएनएम का पूरा नाम होता है “ऑक्सिलरी नर्सिंग मिडवाइफरी”। यह एक प्रशिक्षण होता है जो स्वास्थ्य सेवा के क्षेत्र में तैयारी प्रदान करता है। एएनएम प्रोग्राम में छात्रों को मातृत्व सेवाएं, नवजात शिशुओं की देखभाल, स्वास्थ्य संबंधी शिक्षा, प्राथमिक चिकित्सा, और समुदाय स्वास्थ्य सेवाएं देने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है।

यह प्रोग्राम छोटे शहरों और गाँवों में स्वास्थ्य सेवाओं की पहुंच में मदद करने के लिए महत्त्वपूर्ण होता है। एएनएम के पास योग्यता होती है कि वह गर्भवती महिलाओं की देखभाल, बच्चों की देखभाल, प्राथमिक चिकित्सा, और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में सेवाएं प्रदान कर सकें।

ANM kya hota hai

2) एएनएम कोर्स क्यों करना चाहिए-

एएनएम कोर्स कई तरह के लोगों के लिए फायदेमंद हो सकता है। यहाँ कुछ कारण हैं जिनके बारे में आपको जानकारी हो सकती है-

  1. सेवाओं की जरूरत- एएनएम कोर्स करने से आप समुदाय के लोगों की सेवा करने में सक्षम होते हैं। छोटे शहरों या गाँवों में स्वास्थ्य सेवाओं की कमी होती है, और एएनएम वहाँ सेवाएं प्रदान करने में मदद कर सकते हैं।
  2. सेवाओं के आवासीय क्षेत्र- गरीबी से प्रभावित क्षेत्रों में, समुदायों में, और स्वास्थ्य सेवा के पहुंच में दिक्कत होती है। एएनएम कोर्स करके आप उन स्थानों में सेवाएं प्रदान कर सकते हैं जहाँ स्वास्थ्य सेवाओं की आवश्यकता होती है।
  3. संबंधों का महत्त्व- एएनएम कोर्स करने से आप मातृत्व सेवाएं और बच्चों की देखभाल में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। गर्भवती महिलाओं की देखभाल, नवजात शिशु की देखभाल, और बच्चों की सहायता देना एक मानवीय कार्य होता है।
  4. नौकरी के अवसर- एएनएम प्रशिक्षित व्यक्ति अस्पतालों, स्वास्थ्य केंद्रों, या समुदाय स्वास्थ्य केंद्रों में नौकरी प्राप्त कर सकते हैं। यह कोर्स रोजगार के अवसर प्रदान कर सकता है।

3) एएनएम कोर्स कैसे करे-

एएनएम (ANM) कोर्स करने के लिए निम्नलिखित चरणों का पालन कर सकते हैं-

  1. पात्रता मानदंडों की जांच- एएनएम कोर्स के लिए पात्रता मानदंड होते हैं। आपको 10+2 कक्षा की पास प्रमाण-पत्र या इसके समकक्ष पदवी होनी चाहिए।
  2. पंजीकरण- आपको किसी स्थानीय स्वास्थ्य विभाग या संबंधित संस्था में एएनएम कोर्स के लिए पंजीकरण करना होगा।
  3. एएनएम प्रोग्राम की अवधि- यह प्रोग्राम आमतौर पर 1.5 से 2 साल का होता है, जिसमें थ्योरी के साथ-साथ प्रैक्टिकल ट्रेनिंग भी शामिल होती है।
  4. कोर्स सामग्री- आपको छात्रवृत्ति, प्रैक्टिकल कक्षाएं, और कक्षाओं में उपयोग होने वाली किताबों की सामग्री प्राप्त होगी।
  5. कॉलेज या संस्था चुनें- आपको एक अच्छे संस्थान या कॉलेज में प्रवेश लेना होगा जो एएनएम प्रोग्राम प्रदान करता हो।
  6. प्रशिक्षण को पूरा करें- कोर्स के दौरान, आपको थ्योरी, प्रैक्टिकल ट्रेनिंग, और अनुभव प्राप्त होगा। आपको संबंधित शिक्षा और प्रशिक्षण पूरा करना होगा।
  7. प्रमाण-पत्र प्राप्त करें- कोर्स पूरा करने के बाद, आपको अनुमोदन प्राप्त होगा और एएनएम प्रमाण-पत्र दिया जाएगा।

4) एएनएम कोर्स का सिलेबस-

एएनएम (ANM) कोर्स का सिलेबस छात्रों को स्वास्थ्य सेवा के क्षेत्र में तैयारी देने के लिए तैयार किया गया होता है। यहाँ एक सामान्यत सिलेबस की कुछ मुख्य विषयों की एक सूची है-

  1. मातृत्व और शिशु स्वास्थ्य
  2. प्राथमिक चिकित्सा
  3. स्वास्थ्य शिक्षा और सामुदायिक स्वास्थ्य
  4. रोगों की पहचान और उपचार
  5. जनसंख्या समस्याएं और परिवार नियोजन
  6. बाल संरक्षण और बच्चों की देखभाल
  7. शैक्षिक और सामाजिक अंगों की समझ
  8. संविधान, स्वास्थ्य अधिकार, और समुदाय सेवा

यह कुछ मुख्य विषय हैं जो एएनएम कोर्स के सिलेबस में शामिल हो सकते हैं, लेकिन यह सिलेबस स्थानीय संस्थाओं या शैक्षणिक संस्थाओं के अनुसार अलग-अलग हो सकता है। यह विषयों की एक सार्वजनिक सूची है जो छात्रों को स्वास्थ्य सेवा में तैयार करने के लिए सिखाया जाता है।

5) एएनएम के कार्यक्षेत्र-

एएनएम (ANM) के कार्यक्षेत्र विभिन्न हो सकते हैं और इसमें निम्नलिखित शामिल हो सकते हैं-

  1. मातृत्व सेवाएं- ANM महिलाओं की मातृत्व सेवाओं में सहायता करते हैं, जैसे कि गर्भवती महिलाओं की देखभाल, बच्चे की पैदाइश में सहायता, और माँ और बच्चे की सेहत की देखभाल।
  2. बच्चों की सेवाएं- ANM बच्चों की देखभाल में मदद करते हैं। वे नवजात शिशुओं की देखभाल, टीकाकरण, सहायक आहार, और बच्चों की सेहत से जुड़ी सेवाएं प्रदान करते हैं।
  3. समुदाय स्वास्थ्य- ANM समुदाय में स्वास्थ्य सेवाओं को पहुंचाने में मदद करते हैं। वे समुदाय के लोगों को स्वास्थ्य शिविरों, जागरूकता कार्यक्रमों और सामुदायिक स्वास्थ्य सेवाओं में संलग्न करते हैं।
  4. चिकित्सा सहायता- ANM बुनियादी चिकित्सा सेवाएं प्रदान कर सकते हैं, जैसे कि रोगी की देखभाल, इंजेक्शन देना, ड्रेसिंग करना, और आवश्यक सामग्री का प्रयोग करना।
  5. स्वास्थ्य शिक्षा- ANM समुदाय में स्वास्थ्य शिक्षा के कार्यक्रमों में सहायता करते हैं, जो स्वास्थ्य संबंधी जागरूकता बढ़ाने और संक्रमणों से बचाव को प्रोत्साहित करते हैं।

6) एएनएम कोर्स करने के फायदे-

एएनएम (ANM) कोर्स करने के कई फायदे होते हैं। यहाँ कुछ मुख्य फायदे हैं-

  • सेवाओं में सक्षमता- ANM कोर्स करने से आप स्वास्थ्य सेवा के क्षेत्र में सक्षमता हासिल करते हैं। गाँवों और छोटे शहरों में स्थानीय स्तर पर सेवाएं प्रदान करने में सक्षम होते हैं।
  • मातृत्व सेवाएं- एएनएम कोर्स से आप मातृत्व सेवाओं में सक्षम होते हैं, जैसे कि गर्भवती महिलाओं की देखभाल और सहायता प्रदान करना।
  • बच्चों की देखभाल- इस कोर्स से आप नवजात शिशुओं की देखभाल और बच्चों की सेवा करने में योग्य होते हैं।
  • समुदाय सेवा- ANM प्रशिक्षित व्यक्ति समुदाय में स्वास्थ्य सेवाओं को पहुंचाने में मदद कर सकते हैं, जिससे समाज में स्वास्थ्य सेवाओं की मान्यता बढ़ती है।
  • रोजगार के अवसर- ANM प्रशिक्षित व्यक्तियों को अस्पतालों, स्वास्थ्य केंद्रों, या समुदाय स्वास्थ्य केंद्रों में रोजगार की संभावना होती है।
  • बुनियादी चिकित्सा सेवाएं- आपको बुनियादी चिकित्सा सेवाओं की क्षमता मिलती है, जैसे कि रोगी की देखभाल, इंजेक्शन देना, ड्रेसिंग करना, और आवश्यक सामग्री का प्रयोग करना।

7) एएनएम कोर्स करने के बाद करियर विकल्प-

एएनएम (ANM) कोर्स करने के बाद आपके पास कई करियर विकल्प हो सकते हैं-

  1. सरकारी सेक्टर में नौकरी- एएनएम प्रमाण-पत्र के बाद, आप सरकारी स्वास्थ्य विभाग, जिला अस्पताल, समुदाय स्वास्थ्य केंद्र आदि में नौकरी पा सकते हैं।
  2. प्राइवेट सेक्टर- निजी अस्पताल, क्लिनिक, नर्सिंग होम्स, फैमिली हेल्थ सेवा और अन्य स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने वाली कंपनियों में आपको नौकरी मिल सकती है।
  3. स्वास्थ्य सेवा प्रदान करना- एएनएम प्रमाण-पत्र के साथ, आप समुदाय में स्वास्थ्य सेवा प्रदान कर सकते हैं, जैसे कि गाँवों में स्वास्थ्य कैंप्स या स्वास्थ्य शिविरों में शामिल होकर सेवाएं प्रदान करना।
  4. अन्य पढ़ाई का विकल्प- एएनएम कोर्स के बाद, आप आगे नर्सिंग या स्वास्थ्य संबंधित कोर्स करके अपनी शिक्षा में और भी आगे बढ़ सकते हैं।
  5. स्वतंत्र रूप से काम करना- आप एक स्वतंत्र स्वास्थ्य सेवा प्रदाता बनकर भी काम कर सकते हैं, जैसे कि गाँवों में अपनी स्वास्थ्य सेवा केंद्र चलाना।

8) ANM की तैयारी कैसे करे-

ANM की तैयारी करने के लिए ये कुछ मुख्य तरीके हो सकते हैं-

  • पाठ्यक्रम की समझ- ANM के पाठ्यक्रम को अच्छी तरह से समझें। प्रत्येक विषय पर ध्यान केंद्रित करें और सम्बंधित विषयों को अच्छी तरह से समझें।
  • महत्त्वपूर्ण विषयों पर ध्यान केंद्रित करें- जैसे कि मातृत्व सेवाएं, प्राथमिक चिकित्सा, नवजात शिशु देखभाल, और समुदाय स्वास्थ्य के विषयों पर विशेष ध्यान दें।
  • प्रैक्टिस पेपर्स और मॉडल टेस्ट्स- पिछले वर्षों के प्रैक्टिस पेपर्स और मॉडल टेस्ट्स का अध्ययन करें। यह आपको परीक्षा पैटर्न और प्रश्नों की समझ में मदद करेगा।
  • समय सारणी बनाएं- अपनी तैयारी के लिए समय सारणी बनाएं ताकि आप नियमित रूप से पढ़ाई कर सकें और हर विषय को समय समाप्त करें।
  • सेल्फ-स्टडी- स्वतंत्र अध्ययन करें। सम्पूर्ण पाठ्यक्रम को अच्छी तरह से समझने के लिए निरंतर पढ़ाई करें और नोट्स बनाएं।
  • प्रैक्टिकल अनुभव- ANM में प्रैक्टिकल क्षेत्र में भी महत्त्वपूर्ण अनुभव होता है। तालिका, व्यायाम, और अन्य प्रैक्टिकल क्षेत्रों में भी तैयारी करें।

9) ANM की तैयारी के लिए बेस्ट बुक्स-

ANM की तैयारी के लिए कुछ बेस्ट बुक्स इस प्रकार हैं-

  1. “ANM/साक्षात्कार के लिए सभी प्रकार के प्रश्न” – राजीव गर्ग
  2. “ANM/साक्षात्कार परीक्षा के लिए सभी प्रकार के प्रश्न” – अरुण कुमार
  3. “ANM प्रश्न पत्र: प्राथमिक चिकित्सा और संबंधित प्रश्नों का संग्रह” – अनिता शर्मा
  4. “ANM प्रश्न बैंक” – अनुजा जैन

10) एएनएम की सैलरी-

सामान्यत ANM की प्रारंभिक सैलरी सरकारी सेक्टर में लगभग 15,000 रुपये से शुरू होती है, जो क्षेत्र और स्थान के आधार पर बढ़ सकती है। निजी क्षेत्र में इसमें थोड़ी कमी हो सकती है, लेकिन अनुभव और प्रैक्टिस के साथ इसमें वृद्धि हो सकती है।

यह सैलरी बढ़ाने के लिए अनुभव, ज्ञान, क्षमता, और क्षेत्र के डिमांड के अनुसार बदल सकती है।

11) भारत के टॉप ANM कॉलेज-

भारत में कुछ टॉप ANM कॉलेज निम्नलिखित हो सकते हैं, लेकिन कॉलेज की गुणवत्ता और रैंकिंग स्थानीय और राष्ट्रीय संस्थानों के आधार पर अलग-अलग हो सकती हैं:

  1. आइनीएम, दिल्ली
  2. स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ नर्सिंग, रायपुर, छत्तीसगढ़
  3. महाराष्ट्र नर्सिंग संस्थान, मुंबई
  4. राजस्थान स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय, जयपुर
  5. एमएनएमसी नर्सिंग कॉलेज, बंगलूरु, कर्नाटक

निष्कर्ष-

ANM kya hota hai- एएनएम प्रशिक्षण एक बहुत ही महत्त्वपूर्ण कोर्स होता है जो स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में नये और सक्षम नर्सिंग कर्मचारियों को तैयार करता है। इससे समुदायों में स्वास्थ्य सेवाओं की पहुंच में सुधार होती है और समाज में स्वास्थ्य सेवाओं की मान्यता बढ़ती है।

FAQs

1. एएनएम का क्या काम होता है?

एएनएम की मुख्य भूमिका गर्भवती महिलाओं और बच्चों की सेहत सुनिश्चित करना होती है।

2. एएनएम बनने के लिए क्या योग्यता चाहिए?

एएनएम प्रशिक्षण के लिए आपको 10+2 किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से पास होना चाहिए।

3. एएनएम का करियर कैसा होता है?

एएनएम का करियर विशाल होता है, जो सरकारी और निजी सेक्टर दोनों में अवसर प्रदान करता है।

4. एएनएम का समुदाय में क्या योगदान होता है?

एएनएम समुदाय में स्वास्थ्य सेवाओं की जानकारी फैलाने और सेवाओं में सुधार करने में योगदान करता है।

5. एएनएम की भविष्य कैसा हो सकता है?

एएनएम का भविष्य उज्ज्वल है और इसमें और भी वृद्धि के अवसर हो सकते हैं।

Share this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *