How to get out of depression in hindi | 10 ways to get out of depression

अगर आप भी डिप्रेशन के शिकार हो चुके हो तो ये आर्टिकल आपको डिप्रेशन से बाहर निकलने में आपकी मदत कर सकती है और आपको एक बेहतर जीवन जीने के लिए प्रेरित कर सकती है |

इससे पहले हम ये जाने की डिप्रेशन से बाहर कैसे निकले (How to get out of depression in hindi) उससे पहले ये जान लेते है की डिप्रेशन क्या है |

How to get out of depression in hindi

What is depression (डिप्रेशन क्या है)-

डिप्रेशन को अगर एक आम बीमारी कहे तो ये कहना गलत नहीं होगा क्योंकि आप और हमारे बीच ऐसे बहुत से लोग है जो अन्दर ही अन्दर घुट घुट का जी रहे होते है और लोगो को बताने से डरते है |

डिप्रेशन एक मानसिक स्वास्थ्य विकार है जो उदासी, निराशा और जीवन में रुचि की कमी की लगातार भावनाओं की विशेषता है। यह किसी व्यक्ति के विचारों, व्यवहार और शारीरिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है। डिप्रेशन में निम्नलिखित लक्षण सामिल हो सकते है-

डिप्रेशन के लक्षण-

  • उन गतिविधियों में रुचि कम होना जो कभी आनंदित हुआ करती थी
  • सोने में कठिनाई या अधिक नींद का आना
  • भूख और वजन में बदलाव होना
  • थकान और ऊर्जा की कमी होना
  • ध्यान देने में कठनाई होना
  • खुद को नुकसान पहुंचाने जैसे विचार आना
  • हमेसा उदास या निराश रहना

How to get out of depression in hindi

डिप्रेशन किसी भी समय किसी को भी प्रभावित कर सकता है, और यह अनुवांशिक, पर्यावरण और मनोवैज्ञानिक कारकों के संयोजन के कारण हो सकता है। यह जीवन की कुछ घटनाओं, जैसे किसी प्रियजन की हानि, संबंध, नौकरी या स्थान परिवर्तन के कारण भी हो सकता है। यह कोई कमजोरी या व्यक्तित्व दोष नहीं है, यह एक गंभीर समस्या है जिसके लिए दूसरो की मदत की आवश्यकता हो सकती है |

डिप्रेशन एक आम और गंभीर चिकित्सा बीमारी है जो नकारात्मक रूप से प्रभावित करती है कि आप कैसा महसूस करते हैं, आप कैसे सोचते हैं और आप कैसे कार्य करते हैं।

डिप्रेशन उदासी की भावनाओं और/या आनंद लेने वाली गतिविधियों में रुचि की कमी का कारण बनता है। यह कई तरह की भावनात्मक और शारीरिक समस्याओं को जन्म दे सकता है और किसी व्यक्ति के काम और घर पर काम करने की क्षमता को कम कर सकता है।

डिप्रेशन से बाहर निकलना एक कठिन और जटिल प्रक्रिया हो सकती है और यह प्रक्रिया हर किसी के लिए अलग हो सकती है। यहां कुछ अतिरिक्त चरण दिए गए हैं जो डिप्रेशन से निकलने में आपकी सहायता कर सकते हैं-

How to get out of depression in hindi (डिप्रेशन से बाहर कैसे निकले)-

1) सुबह जल्दी उठे-

सुबह जल्दी उठने के कई सारे फायदे है जो आपको डिप्रेशन से लड़ने में मदत कर सकते है-

  • सुबह जल्दी उठने से आप अपने दिन का अधिकतम लाभ उठा सकते हो |
  • अध्ययनों से पता चला है कि जल्दी उठने वालों में डिप्रेशन, मोटापा और मधुमेह का जोखिम कम होता है।
  • अपने लिए सुबह का समय अपने व्यक्तिगत लक्ष्यों पर ध्यान केंद्रित करने का एक शानदार अवसर हो सकता है, जैसे पढ़ना, ध्यान करना या लिखना।
  • जल्दी उठने से आप सुबह प्राकृतिक प्रकाश का लाभ उठा सकते हैं, जो आपके मूड को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है।
  • सुबह-सुबह चलने से शरीर में ब्लड सर्कुलेशन अच्छा रहता है जिससे आपके अन्दर की कई बीमारियाँ ठीक हो सकती है |

सुबह उठने के और भी बहुत सारे फायदे है इसलिए सुबह जल्दी उठे और ताज़ी हवा में घूमे, थोड़ी एक्सरसाइज करे और हल्की से धूप ले इससे आपकी बॉडी फ्रेश फील करेगी और आप डिप्रेशन को कुछ हद तक कम कर सकते हो |

यह ध्यान देने योग्य है कि ये लाभ एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न हो सकते हैं, कुछ लोग स्वाभाविक रूप से रात के उल्लू होते हैं और सुबह की तुलना में रात में बेहतर प्रदर्शन कर सकते हैं।

2) जीवनशैली में बदलाव करें-

अपनी दिनचर्या में छोटे-छोटे बदलाव करके आप अपने मूड को बेहतर बना सकते हैं। स्वस्थ आहार खाना, नियमित व्यायाम करना और पर्याप्त नींद लेना, ये सभी आपके मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद कर सकते हैं।

3) फ़ालतू की बातो को इगनोर करो-

कई लोग ऐसे होते है जो फालतू में कुछ भी बोल देते है और लोग उसे दिल से लगा लेते है और उसी को सही समझने लगते है जिससे उनमे डिप्रेशन का खतरा और बढ़ जाता है |

अगर आप छोटी-छोटी बातो को दिल से लगाने लगोगे तो आपको डिप्रेशन का शिकार होने से कोई नहीं रोक सकता |

इलसिए हर चीज को दिल से लगाना छोड़ दो, एक कान से सुनो और दूसरे से निकाल दो, आप जैसे भी हो ठीक हो बस खुद पर भरोसा रखो |

4) कोई बड़ा निर्णय लेने से बचे-

डिप्रेशन में गुस्सा या इमोशनल होना आम बात है ऐसे में कोई भी ऐसा निर्णय लेने से बचे जिससे आपको बाद में पछतावा हो, अक्सर लोग गुस्से में आकर कोई ऐसा निर्णय ले लेते है या फिर कोई ऐसा काम कर देते है जिसका उन्हें बाद में पछतावा होता है |

How to get out of depression in hindi

5) मैडिटेशन (ध्यान) करे-

ध्यान एक अभ्यास है जिसमें ध्यान केंद्रित करने और शांत और विश्राम की स्थिति प्राप्त करने के लिए मन को प्रशिक्षित करना शामिल है। यह आमतौर पर एक आरामदायक स्थिति में बैठकर या लेटकर, आंखें बंद करके और सांस या एक विशिष्ट शब्द या वाक्यांश (“मंत्र” के रूप में जाना जाता है) पर ध्यान केंद्रित करके किया जाता है।

ध्यान का लक्ष्य मन को शांत करना, तनाव और चिंता को कम करना और शांति और भलाई की भावनाओं को बढ़ावा देना है।

ध्यान न सिर्फ आपके दिमाग को मजबूत बनायेगा बल्की ये आपको डिप्रेशन से लड़ने में भी मदत करेगा | हर सुबह 15 से 20 मिनिट का ध्यान आपके दिमाग को रिलैक्स और शांत कर सकता है |

6) परिवार या दोस्तों के साथ समय बिताये-

डिप्रेशन में खुद को अकेला कभी न करे वर्ना आपके दिमाग में बहुत सारे विचार आते रहेंगे जिनमे से कुछ अच्छे विचार होगे और कुछ बुरे विचार होगे, इसलिए इन सब से बचने के लिए परिवार वालो के साथ या अपने दोस्तों के साथ ज्यादा से ज्यादा समय बिताये |

या फिर अगर आप फ्री हो तो अपने दोस्तों या परिवार वालो के साथ कही घूमने के लिए चले जाओ इससे आपका मन हल्का और शांत हो जायेगा |

7) अपने मनपसंद चीजो को करे-

जिस चीज में आपका मन लगता है उन चीजो को करने की कोशिश करे | जैसे- गेम्स खेलना, मूवी देखना आदि ऐसे बहुत से कार्य है जिन्हें आप अपनी इच्छा अनुसार कर सकते है |

अपने मनपसंद चीजो को करने से दिमाग एक्टिव रहता है और दिमाग में फालतू के विचार उत्पन्न नहीं होते है |

How to get out of depression in hindi

8) छोटे-छोटे लक्ष्य निर्धारित करें-

छोटे और प्राप्त करने योग्य लक्ष्य निर्धारित करने से आपको नियंत्रण की भावना वापस पाने में मदद मिल सकती है और आपको काम करने के लिए कुछ मिल सकता है।

हर छोटे लक्ष्य के पूरा होने पर खुद को रिवॉर्ड जरूर करे इससे आपका कॉन्फिडेंस बढेगा और आप तेजी से काम कर सकोगे |

9) धैर्य रखें-

यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि डिप्रेशन से निकलने में समय लगता है और यह रातोंरात नहीं हो सकता है। खुद के साथ धैर्य रखना और बहुत जल्दी खुद से बहुत ज्यादा उम्मीद न करना महत्वपूर्ण है |

अगर आप इन सभी पॉइंट को धैर्य के साथ अपने जीवन में अपना लेते है तो आप बहुत जल्दी डिप्रेशन नामक बीमारी से बाहर आ सकते है |

10 ) खुद पर भरोसा रखे-

और खुद पर भरोसा जरूर रखना अपने अन्दर के उस भरोसे और उम्मीद को कभी कम मत होने देगा |

“खुद पर भरोसा रखना” एक वाक्यांश है जो आत्मविश्वास और आत्म-आश्वासन को प्रोत्साहित करता है। इसका अर्थ है अपनी क्षमताओं, शक्तियों और क्षमता पर विश्वास करना। यह व्यक्तियों को अपनी सहज प्रवृत्ति पर भरोसा करने और जोखिम लेने और अपने लक्ष्यों का पीछा करने का साहस रखने के लिए प्रोत्साहित करता है।

जब कोई खुद पर विश्वास करता है, तो बाधाओं को दूर करने, चुनौतियों का सामना करने और अपने उद्देश्यों को प्राप्त करने की संभावना अधिक होती है।

इसका अर्थ स्वयं के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण रखना, अपने स्वयं के निर्णयों पर भरोसा करने में सक्षम होना और कठिन परिस्थितियों को संभालने के लिए स्वयं की क्षमताओं में विश्वास रखना भी है।

How to get out of depression in hindi

How to come out of depression

“डिप्रेशन से कैसे बाहर आएं” एक मुहावरा है जो डिप्रेशन के लक्षणों को प्रबंधित करने और उन पर काबू पाने की प्रक्रिया को संदर्भित करता है। यह बताता है कि ऐसे विशिष्ट कदम या तरीके हैं जो उदासी, निराशा और रुचि की हानि की भावनाओं को कम करने के लिए उठाए जा सकते हैं।

डिप्रेशन एक ऐसी चीज है जिसे स्थायी स्थिति के बजाय दूर किया जा सकता है, और यह कि किसी के मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के प्रभावी तरीके हैं। इसका तात्पर्य यह भी है कि एक व्यक्ति के पास अपनी स्थिति को बदलने और अपनी भलाई में सुधार के प्रयास करने की शक्ति है।

How to get someone out of depression

“कैसे किसी को डिप्रेशन से बाहर निकालें” यह समझना महत्वपूर्ण है कि डिप्रेशन एक गंभीर मानसिक बीमारी है और इसे केवल “खुद को एक साथ खींचने” से दूर नहीं किया जा सकता है और अक्सर पेशेवर मदद की आवश्यकता होती है।

इसके लिए धैर्यवान और सहायक होना महत्वपूर्ण है, सक्रिय रूप से सुनें और उन्हें पेशेवर मदद लेने के लिए प्रोत्साहित करें। किसी को डिप्रेशन से बाहर निकालने में मदद करना एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें समय और प्रयास की आवश्यकता होती है, लेकिन सही सहयोग से उनके जीवन में सकारात्मक बदलाव लाना संभव है।

How to get out of depression in hindi

How to get out of depression and anxiety

“डिप्रेशन और चिंता से कैसे बाहर निकलें” डिप्रेशन और चिंता दोनों मानसिक स्वास्थ्य स्थितियां हैं जो उदासी, निराशा और भय की भावना पैदा कर सकती हैं।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि अलग-अलग लोग अलग-अलग उपचारों के लिए अलग-अलग प्रतिक्रिया दे सकते हैं, और आपके लिए सही उपचार योजना खोजने के लिए मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर के साथ काम करना महत्वपूर्ण है। सही समर्थन के साथ, डिप्रेशन और चिंता पर काबू पाना संभव है और किसी के समग्र कल्याण में सुधार करना संभव है।

How can i come out of depression

“मैं डिप्रेशन से कैसे बाहर आ सकता हूं” डिप्रेशन एक मानसिक स्वास्थ्य स्थिति है जो उदासी, निराशा और रुचि की हानि की भावनाओं की विशेषता है।

यह समझना महत्वपूर्ण है कि डिप्रेशन एक गंभीर बीमारी है और इसे दूर करने के लिए पेशेवर मदद और समय की आवश्यकता होती है। यह याद रखना भी महत्वपूर्ण है कि उपचार एक यात्रा है और इससे गुजरते समय स्वयं के प्रति दयालु और करुणामय होना महत्वपूर्ण है।

*******************************

How to get out of depression in hindi

तो दोस्तों ये थे कुछ मेन पॉइंट जो आपको डिप्रेशन को समझने में और डिप्रेशन से लड़ने में आपकी मदत कर सकते है |

इस आर्टिकल (How to get out of depression in hindi) में मैंने आपको डिप्रेशन के बारे में सब कुछ डिटेल से बताया है इसके बाद भी अगर आपको कोई समस्या है तो आप मुझे कमेंट बॉक्स में जरूर बताये |

और इस आर्टिकल (How to get out of depression in hindi) को उन लोगो के साथ जरूर शेयर करे जो डिप्रेशन से जूझ रहे है शायद आपकी एक शेयर किसी को डिप्रेशन से निकलने में मदत कर सकती है |

धन्यवाद (Thankyou).

Share this post

2 Comments on “How to get out of depression in hindi | 10 ways to get out of depression”

Leave a Reply

Your email address will not be published.