इंट्राडे ट्रेडिंग टिप्स | intra day trading tips | इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए Best टिप्स 2023

intra day trading tips: इंट्राडे ट्रेडिंग एक ऐसा वित्तीय कार्यक्रम है जिसमें व्यापारी एक व्यापार को एक ही दिन में खरीदते और बेचते हैं, यानी उनका पूरा व्यापार एक ही दिन में पूरा होता है। इसमें विशेष तरीके से सटीकता, समय का महत्व और धैर्य की आवश्यकता रखता है।

intra day trading tips-

इंट्राडे ट्रेडिंग, जिसे दिन भर की व्यापारिक गतिविधि के रूप में जाना जाता है, एक छोटे समय के लिए स्टॉक मार्केट में साझेदारी करने की एक प्रक्रिया है। यह वित्तीय Marketing का एक आवश्यक हिस्सा है और व्यापारी के लिए लाभकारी हो सकता है, लेकिन साथ ही साथ खतरे भी पैदा कर सकता है। यहां हम इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए कुछ महत्वपूर्ण टिप्स शेयर करेंगे जो एक नए व्यापारी के लिए मददगार साबित हो सकते हैं।

intra day trading tips

1) इंट्राडे ट्रेडिंग क्या है?-

इंट्राडे ट्रेडिंग एक शॉर्ट-टर्म व्यापार है जिसमें व्यापारी एक ही दिन में शेयर्स, कमोडिटीज़, या अन्य वित्तीय संपत्ति को खरीदते और बेचते हैं। उनका उद्देश्य उसी दिन में मुनाफा कमाना होता है। इसलिए, इंट्राडे व्यापारी अपने निवेश को एक दिन में पूरी तरह से खत्म करते हैं।

2) इंट्राडे ट्रेडिंग की उपयोगिता-

इंट्राडे ट्रेडिंग की एक महत्वपूर्ण उपयोगिता यह है कि यह व्यापारी को दिन के अंत में सारे निवेश को सुरक्षित रूप से कमाई में बदलने का मौका देता है। इसके अलावा, इंट्राडे ट्रेडिंग करने से व्यापारी अपने निवेश को अन्य वित्तीय उद्देश्यों के लिए उपयोग कर सकते हैं।

3) सही तरीके से इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे करें-

इंट्राडे ट्रेडिंग करने के लिए व्यापारी को सही तरीके से योग्य बनना होता है। उन्हें वित्तीय बाजार की गतिविधियों का सूचना प्राप्त करनी चाहिए और वित्तीय संपत्ति के मूल्य में आए बदलाव को ध्यान से देखना चाहिए।

4) इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए जरूरी टिप्स-

1. विश्वासी योजना तैयार करें- इंट्राडे ट्रेडिंग में सफलता पाने के लिए एक विश्वासी योजना बनाएं। यह योजना आपके लक्ष्यों, रिस्क प्रबंधन के उपायों, और व्यापारिक नियमों को स्पष्ट रूप से दर्शाती है।

2. शिक्षा प्राप्त करें- इंट्राडे ट्रेडिंग की बुनाई में शिक्षा प्राप्त करें। वित्तीय सूचना, तकनीकी विशेषज्ञता, और ट्रेडिंग के नियमों को समझने के लिए किताबें पढ़ें और विशेषज्ञों से सलाह लें।

3. मार्केट रिसर्च करें- आपके वित्तीय उद्देश्यों के आधार पर विभिन्न स्टॉक्स का रिसर्च करें। समाचार, समाचार पत्रिकाएँ, और बाजार की गतिविधियों की विश्लेषण करें ताकि आप स्टॉक्स के मूल्य चालने की समय के साथ कदम रख सकें।

4. बड़े स्टॉक्स से दूर रहें- इंट्राडे ट्रेडिंग में छोटे स्टॉक्स का चयन करने का प्रयास करें, क्योंकि बड़े स्टॉक्स में अधिक वोलेटिलिटी होती है और रिस्क बढ़ता है।

5. वोलेटिलिटी का सामयिक अनुसरण करें- वोलेटिलिटी के बदलते मौसम का ख्याल रखें। बाजार के सबसे वोलेटाइल समयों में व्यापार करने से बचें और शांति रखें।

6. लाभ हेतु लक्ष्य तय करें- एक इंट्राडे ट्रेडिंग के पूरा होने पर कितनी मुनाफा की आवश्यकता है, इसे स्पष्ट रूप से निर्धारित करें, और उसका पालन करें।

7. नुकसान से बचाव करें- नुकसान से बचाव के उपायों को सीखें। स्टॉप लॉस आदि के तरीकों का उपयोग करें ताकि नुकसान को नियंत्रित किया जा सके।

8. व्यापारिक मनोबल का ध्यान रखें- अपने मनोबल की रक्षा करें और बड़े नुकसान से बचने के लिए व्यापार से दूर रहें।

9. सीखते रहें- हर व्यापार से सीखें, चाहे वो प्राप्त हुआ लाभ हो या नुकसान। यह आपको बेहतर ट्रेडिंग नियम बनाने में मदद करेगा।

10. सावधानी बरतें- अपने व्यापार को सावधानीपूर्वक करें और हमेशा inovation पर नजर रखें। बाजार के अनियमित चालन को ध्यान में रखें।

11. तकनीकी विशेषज्ञता का उपयोग करें- तकनीकी विशेषज्ञता के उपयोग से स्टॉक के मूल्य चालने की जानकारी प्राप्त करें और अच्छे व्यापारिक निर्णय लें।

12. शेयर मार्केट के लिए उपकरण- शेयर मार्केट के लिए उपयोगी टूल्स और सॉफटवेयर का उपयोग करें, जैसे कि चार्ट और डेटा फीड्स, ताकि आप स्टॉक की गति को अधिग्रहण कर सकें।

13. बाजार के अल्पकालिक चलन का उपयोग करें- इंट्राडे ट्रेडिंग के दौरान बाजार के अल्पकालिक चलन का उपयोग करने के लिए बाजार के प्रति सुदृढ और व्यावसायिक धैर्य रखें।

14. लाइव कमेंटरी और ब्रेकिंग न्यूज़ का सहारा लें- लाइव कमेंट्री और ब्रेकिंग न्यूज़ को निगरानी में रखने से व्यापारिक निर्णय में मदद मिल सकती है।

15. मानसिक स्थिति की परवाह करें- व्यापार के दौरान अपनी मानसिक स्थिति का ध्यान रखें। तनाव, चिंता और अत्यधिक उत्साह से बचें क्योंकि ये आपके निर्णयों पर असर डाल सकते हैं.

16. रिस्क प्रबंधन- अपने व्यापार को संरचित तरीके से प्रबंधित करने के लिए रिस्क प्रबंधन को अच्छी तरह से समझें। निवेश की धारा, स्टॉप लॉस निर्धारित करना, और पोर्टफोलियो बिल्डिंग में रिस्क का सही अनुमान लगाना महत्वपूर्ण है।

17. धैर्य रखें- इंट्राडे व्यापारिक निर्णयों को लेने में धैर्य रखें। छोटे-मध्यम समय के लिए व्यापार करने के बावजूद, व्यापारिक निर्णय को स्पष्ट और ठोस ढंग से लें।

18. मानसिक तैयारी करें- इंट्राडे ट्रेडिंग के पहले अच्छी मानसिक तैयारी करें। सुबह आराम से आरंभ करें, स्थानीय समाचारों का अध्ययन करें और अपने व्यापार की नीति को स्पष्टता से समझें।

intra day trading tips

19. व्यापारिक विचारशीलता- व्यापारिक निर्णय लेने में विचारशीलता का पालन करें। खरीदी और बेची गई स्टॉक के लिए विचारशील रूप से विचार करें और अधिक जानकारी प्राप्त करने का प्रयास करें.

20. व्यक्तिगत योजना बनाएं- अपने व्यक्तिगत वित्तीय लक्ष्यों और आवश्यकताओं के आधार पर एक व्यक्तिगत योजना तैयार करें। यह योजना आपके निवेश के लक्ष्य, रिस्क विभाग, और निवेश के समय सीमा को स्पष्ट रूप से प्रकट करेगी।

21. व्यापारिक लेन-देन की शीख लें- अगर आप इंट्राडे ट्रेडिंग कर रहे हैं, तो आपको व्यापारिक लेन-देन की मानक प्रक्रियाओं को समझना आवश्यक है। शेयर खरीदने और बेचने की प्रक्रिया को जानें।

22. टूल्स और प्लेटफार्म का उपयोग करें- ट्रेडिंग के लिए उपयोगी टूल्स और ट्रेडिंग प्लेटफार्म का उपयोग करें। इन टूल्स से आपको शेयर की गति का संवेदना करने में मदद मिलेगी और आप ठीक समय पर निवेश कर सकेंगे।

23. ट्रेंड के साथ चलो- शेयर मार्केट में ट्रेंड के साथ चलना बेहद महत्वपूर्ण है। यदि एक स्टॉक का मूल्य ऊपर जा रहा है, तो आप उसे खरीद सकते हैं, जबकि यदि मूल्य नीचे जा रहा है, तो आप उसे बेच सकते हैं।

24. नियमों का पालन करें- व्यापार करते समय व्यापारिक नियमों का पूरा पालन करें। आपके निवेश के लिए स्टॉप लॉस और टेक्निकल नियमों का पालन करना महत्वपूर्ण है.

25. निवेश के प्रति सचेत रहें- इंट्राडे ट्र्रेडिंग के दौरान ध्यान दें कि निवेश के लिए आपकी आर्थिक स्थिति महत्वपूर्ण है। जब भी निवेश करें, वह राशि जो आप हानि उठा सकते हैं पर्याप्त होनी चाहिए।

26. निवेश का सुझाव- इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए निवेश करने का सुझाव है कि आप एक निवेश प्लान तैयार करें। इसमें आपके निवेश के लक्ष्य, रिस्क प्रोफाइल, और व्यापारिक नीतियाँ शामिल होनी चाहिए।

27. व्यापार के लिए धन का प्रबंधन- अपने ट्रेडिंग के लिए धन का प्रबंधन अच्छी तरह से करें। आपके पास जितने पैसे होने चाहिए और व्यापार में कितने पैसे निवेश करने चाहिए, इसे स्पष्ट रूप से समझें.

28. सीखना जारी रखें- इंट्राडे ट्रेडिंग के दौरान सीखते रहें। हर व्यापार से कुछ सीखें, चाहे वो लाभकारक हो या नुकसान. अपने व्यापारिक कौशलों को सुधारने के लिए यदि आप अपनी गलतियों से सिखते हैं, तो आपका व्यापार बेहतर हो सकता है।

29. सवाल पूछें और सहायता प्राप्त करें- जब आप किसी समस्या का समाधान नहीं पा रहे हैं, तो सवाल पूछने में हिचकिचाएं नहीं। व्यापारी समुदाय में सहयोग करने वाले अन्य व्यक्तियों से सहायता प्राप्त करें। आपके अनुभवी सहयोगी द्वारा प्राथमिकता की जाती है और आपको बेहतर व्यापारिक निर्णयों की दिशा में मार्गदर्शन मिल सकता है |

30. विनम्रता बनाए रखें- व्यापार में सफलता पाने के लिए विनम्र और सदैव अधिग्रहण रखें। किसी भी समय आपकी गर्वशीलता आपके व्यापार को प्रभावित कर सकती है, इसलिए विनम्र बने रहें.

31. टेस्ट करें और सुधारें- आपके व्यापार की प्रगति को मानचित्रित करने के लिए अपनी व्यापारिक नीतियों को पुनरालोचना करें और सुधारें. अपने व्यापार की प्रगति को नियमित अंतराल पर मॉनिटर करें और कुछ हद तक जरूरी बदलावों को करने के लिए तैयार रहें।

32. वित्तीय दिशा बनाएं- इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए एक वित्तीय दिशा तैयार करें और इसे अपने लक्ष्यों और व्यापारिक योजना के साथ मेल कराएं. इससे आपके वित्तीय लक्ष्यों को पूरा करने में मदद मिलेगी.

33. संविदानिकता का पालन करें- व्यापार को संविदानिक रूप से और नियमों के साथ करें। आपको स्थानीय और राष्ट्रीय वित्तीय नियमों का पूरा पालन करना होगा।

34. संतुलन बनाए रखें- अपने व्यापार को संतुलित रूप से चलाने के लिए यदि आप अधिक नुकसान से गुजर रहे हैं, तो आप व्यापार से दूर रहें। संतुलन का बनाए रखना महत्वपूर्ण है।

35. इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए ट्रेडिंग स्ट्रैटेजीज- ट्रेडिंग स्ट्रैटेजीज के चयन में सावधानी बरतना बहुत महत्वपूर्ण है। इंट्राडे ट्रेडिंग करते समय व्यापारी को अच्छी स्ट्रैटेजी का चयन करना चाहिए, जैसे कि स्कैल्पिंग, डे ट्रेडिंग, या स्विंग ट्रेडिंग।

36. शेयर बाजार में समय का महत्व- शेयर बाजार में समय का महत्व होता है। इंट्राडे ट्रेडिंग करने के लिए व्यापारी को बाजार की खुलने और बंद होने की गतिविधियों को समझना चाहिए।

37. रिस्क प्रबंधन- इंट्राडे ट्रेडिंग करने के साथ ही रिस्क भी बढ़ता है। व्यापारी को अपने निवेश को सुरक्षित रखने के लिए रिस्क प्रबंधन के तरीकों को सीखना चाहिए।

38. स्वर्ण नियम – कभी नहीं बदलें- इंट्राडे ट्रेडिंग करते समय एक स्वर्ण नियम है – कभी निवेश की रकम को बदलने का प्रयास नहीं करें। व्यापारी को अपने योग्यता के हिसाब से निवेश करना चाहिए और यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वे अपने वित्तीय लक्ष्यों को पूरा कर सकते हैं।

39. प्रोफिट और लॉस बुकिंग- इंट्राडे ट्रेडिंग में लाभ और हानि की बुकिंग बहुत महत्वपूर्ण है। व्यापारी को अपने लाभ और हानि को साफ रूप से देखना चाहिए और उन्हें संविदानिक रूप से दर्ज करना चाहिए।

40. निष्कर्ष रहें- इंट्राडे ट्रेडिंग में सफलता पाने के लिए संज्ञान और निष्कर्ष रहने की आवश्यकता होती है। यदि कुछ नहीं हो रहा है, तो आपको निरंतर प्रयास करने की आवश्यकता है।

इंट्राडे ट्रेडिंग संवेदनशीलता, शिक्षा, और नियमित अभ्यास की आवश्यकता है। यह एक चुनौतीपूर्ण काम हो सकता है, लेकिन सही तैयारी, योजना, और नियमानुसार आचरण के साथ, आप इसमें सफल हो सकते हैं।

परिणाम-

इंट्राडे ट्रेडिंग करने के लिए योग्य तैयारी और सही दिशा में निर्देशन बहुत महत्वपूर्ण है। व्यापारी को धैर्य और ध्यान से काम करना चाहिए और उन्हें अपने निवेश को सुरक्षित रखने के लिए रिस्क प्रबंधन की तकनीकों को सीखना चाहिए।

अब तक बचा हुआ समय उपयोग करें!

अब जब आपने इंट्राडे ट्रेडिंग करने के बारे में समझ लिया है, तो अपने वित्तीय उद्देश्यों को पूरा करने के लिए इसे अपनाएं। स्थिरता और समय के प्रति ध्यान दें और व्यापार में सफलता पाएं!

कानूनी नोट- यदि आप इंट्राडे ट्रेडिंगकर रहे हैं, तो आपको स्थानीय वित्तीय नियमों और कानूनों का पालन करना चाहिए।

निष्कर्ष-

इंट्राडे ट्रेडिंग करने के लिए आपको सही तैयारी, सही तरीके से तरकीब, और धैर्य की आवश्यकता है। इसके साथ ही, आपको रिस्क प्रबंधन के महत्व को समझना चाहिए। इससे आप अपने इंट्राडे ट्रेडिंग को सफल बना सकते हैं।

Share this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *