Pharmacy kya hai | फार्मेसी क्या है? फार्मेसिस्ट कैसे बने सम्पूर्ण जानकारी

फार्मेसी शब्द का अर्थ है औषधि विज्ञान। यह एक ऐसा क्षेत्र है जो विभिन्न औषधियों, दवाओं, उपचारों, और उनके उपयोग से जुड़ा है। यह विज्ञान मानव स्वास्थ्य और रोगों के बारे में गहरी जानकारी प्रदान करता है। फार्मेसी के क्षेत्र में शोध, विकास, निर्माण, और औषधीय पदार्थों की विभिन्न प्रक्रियाओं का अध्ययन होता है जो मानव सेहत को सुधारने में मदद करते हैं। इस लेख में हम Pharmacy kya hai इसके बारे में विस्तार से जानने वाले है।

फार्मेसी के क्षेत्र में काम करने वाले व्यक्ति को फार्मेसिस्ट कहा जाता है। यह व्यक्ति दवाओं के विकास, उत्पादन, उनके संरक्षण और उनकी उपयोगिता के बारे में समझदारी रखता है। वे डॉक्टर्स द्वारा लिखी गई दवाओं को सही ढंग से बनाते हैं और उन्हें लोगों तक पहुंचाते हैं।

1) फार्मेसी क्या है? (Pharmacy kya hai)-

फार्मेसी एक विज्ञान है जो औषधि और उसके उपयोग से जुड़ा होता है। यह विज्ञान दवाओं, औषधियों, उनके निर्माण, तैयारी, उपयोग, और उनके प्रभाव का अध्ययन करता है। फार्मेसी मानव स्वास्थ्य को सुधारने और बीमारियों का उपचार करने के लिए विभिन्न तकनीकों, विज्ञान, और तथ्यों का उपयोग करता है। इसमें दवाओं के सही उपयोग, उनकी तैयारी, निर्माण, और उनके प्रभाव के बारे में अध्ययन शामिल होता है।

Pharmacy kya hai

2) फार्मेसी का इतिहास-

फार्मेसी का संबंध अंग्रेजी शब्द “Pharmacy” से है, जो ग्रीक शब्द “Pharmakon” से लिया गया है, जिसका अर्थ होता है “दवा”। फार्मेसी विज्ञान का इतिहास बहुत प्राचीन है और मानव समाज के स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याओं के समाधान के लिए प्राचीन समय से ही उपयोग होता आया है। प्राचीन समय में जड़ी-बूटियों, पौधों, फलों, वन्य जीवों और मिट्टी के पदार्थों का उपयोग स्वास्थ्य सम्बंधित समस्याओं के लिए किया जाता था।

औषधीय विज्ञान में वैज्ञानिक और तकनीकी उन्नति के साथ, 19वीं और 20वीं सदी में फार्मेसी का क्षेत्र और व्यापारिक रूप से विकसित हुआ। औषधीय उत्पादों की व्यापारिक उत्पत्ति, औषधीय रसायन, और औषधीय तकनीकी में तेजी से विकास हुआ।

वर्तमान समय में फार्मेसी एक व्यापक और विशेषज्ञता भरा क्षेत्र बन चुका है। नई तकनीकों, विज्ञान, और औषधीय उत्पादों की उपलब्धता ने चिकित्सा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में बड़ी सुधार की है। विभिन्न औषधीय उत्पादों का विकास, उनका परीक्षण, और उनका सुरक्षित उपयोग फार्मेसी के महत्त्वपूर्ण क्षेत्रों में शामिल है।

3) फार्मेसी के क्षेत्र-

फार्मेसी एक व्यापक क्षेत्र है जो विभिन्न विज्ञानों, तकनीकों, और विधाओं का संयोजन करता है। यहाँ कुछ मुख्य फार्मेसी के क्षेत्रों का उल्लेख किया गया है-

  1. औषधि रसायन विज्ञान (Pharmaceutical Chemistry)- इस क्षेत्र में औषधीय पदार्थों के रसायनिक गुणों का अध्ययन किया जाता है। यहाँ शामिल हैं औषधीय रसायन, जो नई दवाओं की रसायन और उनकी विकास प्रक्रियाओं के संदर्भ में होता है।
  2. फार्मा टेक्नोलॉजी (Pharmaceutical Technology)- यह क्षेत्र दवाओं के निर्माण, पैकेजिंग, और उनके तकनीकी प्रक्रियाओं का अध्ययन करता है। इसमें दवाओं के विभिन्न रूपों, दर्शनीयता, और सुरक्षा की जांच शामिल होती है।
  3. फार्माकोलॉजी (Pharmacology)- यह क्षेत्र दवाओं के मानव शरीर में प्रभाव का अध्ययन करता है। यह दवाओं के प्रभाव, उनका माध्यम, और उनका उपयोग मानव रोगों के उपचार में कैसे लाभकारी हो सकता है इस पर विचार करता है।
  4. क्लिनिकल फार्मेसी (Clinical Pharmacy)- यह क्षेत्र दवाओं के सही उपयोग की सलाह देने और रोगी की सेवा में सहायता करता है। यह विशेष रूप से रोगी के साथ संबंधित औषधीय सलाह एवं समीक्षा पर ध्यान केंद्रित करता है।
  5. फार्मास्यूटिकल बायोलॉजी (Pharmaceutical Biotechnology)- इसमें जैव-इंजीनियरिंग की तकनीकों का अध्ययन होता है, जो औषधीय पदार्थों के निर्माण में उपयोग होती है।

4) फार्मेसी की शिक्षा कैसे प्राप्त करे-

फार्मेसी की शिक्षा प्राप्त करने के लिए निम्नलिखित कदमो का पालन करे-

  • योग्यता की जाँच करें- फार्मेसी की शिक्षा के लिए आपको 12वीं कक्षा की पास होनी चाहिए और विज्ञान स्ट्रीम में होना जरूरी होता है।
  • प्रवेश परीक्षा की तैयारी- फार्मेसी के पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए राष्ट्रीय स्तर परीक्षाएं होती हैं जैसे कि NTA-NEET या स्थानीय स्तर की परीक्षाएं।
  • कॉलेज चुनें- जब आप परीक्षा में सफलता प्राप्त करते हैं, तो आपको फार्मेसी के कॉलेज में प्रवेश मिल सकता है।
  • फार्मेसी की डिग्री पाएं- कॉलेज में प्रवेश मिलने के बाद, आपको फार्मेसी की डिग्री प्राप्त करने के लिए चार साल का पाठ्यक्रम पूरा करना होगा।
  • व्यावसायिक अनुभव प्राप्त करें- अधिकांश फार्मेसी कार्यकर्ताओं को प्रैक्टिकल अनुभव प्राप्त करने के लिए अस्पतालों या दवा कंपनियों में अनुस्तानिक काम करना पड़ता है।
  • लाइसेंस प्राप्त करें- अधिकांश देशों में, फार्मेसी कार्य करने के लिए आपको एक लाइसेंस प्राप्त करना होगा। इसे प्राप्त करने के लिए आपको कुछ व्यावसायिक परीक्षाओं का पास होना होता है।

5) फार्मेसी में कौन कौन से कोर्स होते है-

फार्मेसी में कई प्रकार के कोर्स होते हैं, जो छात्रों को विभिन्न स्तरों पर शिक्षा प्रदान करते हैं। यहां कुछ प्रमुख कोर्सों का उल्लेख है-

1. डी-फार्मा (D-Pharma)-

डी-फार्मा, यानी डिप्लोमा इन फार्मेसी, एक प्रोफेशनल डिप्लोमा होता है जो फार्मेसी की बुनियादी जानकारी और कौशल प्रदान करता है। यह पाठ्यक्रम आमतौर पर दो साल का होता है और इसमें छात्रों को औषधीय रसायन, औषधीय पदार्थ, ड्रग इंटरेक्शन्स, और रोगी सेवा की बुनियादी जानकारी प्रदान की जाती है। डी-फार्मा की पूरी क्षमता के साथ, छात्रों को रिटेल फार्मेसी, हेल्थकेयर सेटिंग्स, और अन्य संबंधित क्षेत्रों में कैरियर विकसित करने का मौका मिलता है।

2. बी-फार्मा (B-Pharma)-

बी-फार्मा, यानी बैचलर ऑफ फार्मेसी, एक चार साल की ग्रेजुएशन प्रोग्राम होता है जो फार्मेसी के विभिन्न पहलुओं पर विस्तार से जानकारी प्रदान करता है। इस कोर्स में छात्रों को औषधीय रसायन, औषधीय पदार्थ, फार्माकोलॉजी, फार्माकिनेटिक्स, और औषधीय रसायन के विभिन्न पहलुओं पर विस्तार से ज्ञान प्रदान किया जाता है। यह प्रोग्राम छात्रों को फार्मेसी के विभिन्न क्षेत्रों में कैरियर विकसित करने का अवसर देता है जैसे कि रिटेल फार्मेसी, इंडस्ट्रियल फार्मेसी, रिसर्च, और क्लिनिकल फार्मेसी।

3. एम-फार्मा (M-Pharma)-

एम-फार्मा, यानी मास्टर ऑफ फार्मेसी, एक पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स होता है जो फार्मेसी के विभिन्न क्षेत्रों में विशेषज्ञता प्राप्त करने का मौका देता है। इस कोर्स में छात्रों को औषधीय रसायन, औषधीय पदार्थ, फार्माकोलॉजी, बायोटेक्नोलॉजी, फार्माकिनेटिक्स, और औषधीय रसायन के विभिन्न पहलुओं में गहरी जानकारी प्रदान की जाती है। इसमें छात्रों को औषधीय उत्पादन, औषधीय विज्ञान में अनुसंधान, और औषधीय रसायन में विशेषज्ञता प्राप्त करने का अवसर मिलता है। यह कोर्स छात्रों को फार्मेसी के उच्च स्तरीय कैरियर और अनुसंधान में प्रवेश करने का मार्ग प्रदान करता है।

6) फार्मेसी कोर्स का पाठयक्रम-

फार्मेसी कोर्स का पाठ्यक्रम आमतौर पर निम्नलिखित विषयों पर आधारित होता है-

  • भौतिकी और रसायन विज्ञान- इसमें विज्ञान के मौलिक सिद्धांतों, रसायन विज्ञान, जैसे कि द्रव्य और उसके गुणों का अध्ययन होता है।
  • दवाओं की विज्ञान- यह विषय दवाओं की विशेषताओं, उनके तत्व, उत्पादन, और उनके प्रयोग के संबंध में होता है।
  • फार्माकोलॉजी- दवाओं के प्रभाव, साइड इफेक्ट्स, और उनके उपयोग के विषय में जानकारी प्रदान करता है।
  • बायोकेमिस्ट्री- यह दावों के प्रभाव और मानव शरीर में उनके प्रभाव के संबंध में होता है।
  • फार्मासिस्ट्री- इसमें दवाओं के वितरण, उपयोग, और उनकी सही तरीके से प्रदान करने की विधियों का अध्ययन होता है।
  • क्लिनिकल फार्मेसी- यह विषय रोगी के संपर्क में फार्मेसी की भूमिका, सलाह देने के कौशल, और और चिकित्सकीय समूह के साथ काम करने के तरीकों का अध्ययन होता है।
  • फार्मेसी कानून और नैतिकता- यह शिक्षा देता है कि दवाओं के वितरण और उपयोग में कौन-कौन से कानूनी और नैतिक मामले होते हैं।
  • संश्लेषणात्मक पठन- इसमें छात्रों को विभिन्न औषधियों के प्रयोग के संबंध में प्रदर्शनीय और संश्लेषणात्मक कार्यों का पाठ्यक्रम होता है।
  • व्यावसायिक प्रशिक्षण- अन्य व्यावसायिक क्षेत्रों की तरह, फार्मेसी के क्षेत्र में भी व्यावसायिक प्रशिक्षण और कामकाजी अनुभव का महत्व होता है।

यह संक्षेपित रूप से फार्मेसी कोर्स के मुख्य विषयों का अध्ययन होता है जो छात्रों को दवाओं के विकास, वितरण, और सही उपयोग के क्षेत्र में तैयार करता है।

7) भारत के टॉप फार्मेसी कॉलेज-

भारत में कई श्रेष्ठ फार्मेसी कॉलेज हैं जो छात्रों को उच्च शैक्षिक मानकों और अच्छे कैरियर विकल्पों के साथ शिक्षा प्रदान करते हैं। कुछ टॉप फार्मेसी कॉलेजों में से कुछ हैं-

  1. जमिया हमदर्द, नई दिल्ली
  2. नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मेस्य, मोहाली
  3. बनारस हिंदू विश्वविद्यालय, वाराणसी
  4. लीलावती आई.पी.टी., मुंबई
  5. अल्ल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस, नई दिल्ली

8) फार्मेसी का महत्व-

फार्मेसी का महत्व विभिन्न आयुर्वेदिक और साधारण चिकित्सा विज्ञानों में बहुत महत्त्वपूर्ण है। यह विज्ञान और तकनीक दवाओं, औषधियों, उनके विकास, तैयारी, और सही उपयोग की जानकारी प्रदान करता है। फार्मेसी के माध्यम से ही हम रोगों का उपचार, रोकथाम, और दवाओं का सही उपयोग कर सकते हैं।

यह विज्ञान मानव समाज में स्वास्थ्य को सुधारने और रोगों का उपचार करने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता है। दवाओं के विकास और नवीनतम औषधीय पदार्थों का अध्ययन, जिनका उपयोग रोगों के इलाज में किया जा सकता है, फार्मेसी के महत्त्व को और भी बढ़ाता है।

फार्मेसी के क्षेत्र में नए औषधीय उत्पादों का निर्माण, तेजी से बढ़ती तकनीकी उन्नति, और उनका सही उपयोग रोगों के इलाज में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता है। औषधियों की सही जानकारी और उनका सही इस्तेमाल हमारे स्वास्थ्य को सुरक्षित रखता है और बीमारियों से निपटने में मदद करता है।

9) फार्मेसी के क्षेत्र में करियर-

फार्मेसी विज्ञान में करियर बहुत व्यापक हैं। इसमें डॉक्टर ऑफ फार्मेसी (Pharm.D), बैचलर ऑफ फार्मेसी (B.Pharm), मास्टर ऑफ फार्मेसी (M.Pharm), और फार्मेसिस्ट के रूप में कई विभिन्न पद हो सकते हैं। फार्मास्यूटिकल कंपनियों, अस्पताल, नैदानिक संस्थान, शैक्षणिक संस्थान और सरकारी विभागों में फार्मेसिस्ट की विशेषज्ञता की जरूरत होती है।

फार्मेसी के क्षेत्र में करियर करने के लिए कई रोजगार और करियर विकल्प होते हैं जो आपको एक व्यापक और व्यावसायिक मार्ग प्रदान कर सकते हैं।

  • फार्मेसिस्ट (Pharmacist)- फार्मेसिस्ट औषधीय समाधानों और रोगों के उपचार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। वे दवाओं के वितरण, सलाह, रोगी सम्बंधित जानकारी प्रदान करते हैं।
  • औषधीय विज्ञानी (Pharmaceutical Scientist)- ये विज्ञानी औषधीय उत्पादन, औषधीय रसायन, औषधीय पदार्थों के विकास और अनुसंधान में काम करते हैं।
  • क्लिनिकल फार्मेसिस्ट (Clinical Pharmacist)- ये विशेष रूप से रोगी के साथ संबंधित औषधीय सलाह एवं समीक्षा पर ध्यान केंद्रित करते हैं।
  • औषधीय उत्पादन मैनेजर (Pharmaceutical Production Manager)- ये उत्पादन प्रक्रियाओं का प्रबंधन करते हैं, जिसमें औषधीय उत्पादों की निर्माण और गुणवत्ता की जांच शामिल होती है।
  • औषधीय सेल्स रिप्रेजेंटेटिव (Pharmaceutical Sales Representative)- ये व्यापारिक रूप से औषधीय उत्पादों की प्रचार-प्रसार करते हैं और डॉक्टर्स और अस्पतालों से आदेश प्राप्त करते हैं।
  • औषधीय तकनीशियन (Pharmacy Technician)- ये फार्मेसिस्ट के सहायक होते हैं और औषधीय कार्यों में सहायता करते हैं।

10) फार्मेसी के लाभ-

फार्मेसी के क्षेत्र में काम करने के कई लाभ होते हैं-

  • समाज सेवा- Pharmacy क्षेत्र में काम करने से समाज को सेवा प्रदान करने का मौका मिलता है। यहाँ दवाओं की सही जानकारी, सलाह और सेवा के माध्यम से लोगों की सेहत की देखभाल होती है।
  • करियर विकास- Pharmacy क्षेत्र में काम करने से व्यक्ति को अनेक करियर विकल्प मिलते हैं जैसे कि फार्मासिस्ट, रिसर्चर, औषधीय विज्ञानी आदि।
  • स्वास्थ्य सेवा में योगदान- Pharmacy विज्ञान से जुड़े व्यक्ति स्वास्थ्य सेवा में महत्त्वपूर्ण योगदान करते हैं, विशेष रूप से रोगियों को उचित और सही दवाओं का प्रबंधन करके।
  • सामर्थ्य और विश्वास- Pharmacy क्षेत्र में काम करने से व्यक्ति को दवाओं और स्वास्थ्य सेवाओं के बारे में सामर्थ्य और आत्म-विश्वास मिलता है।
  • संशोधन और नवीनतम विकास- यहाँ प्रोफेशनल्स नवीनतम औषधीय तकनीकों, रसायन, और औषधीय उत्पादों के विकास में योगदान करते हैं, जिससे सामाजिक और आर्थिक विकास होता है।
  • विश्वासी और गुणवत्ता युक्त औषधियों का प्रबंधन- फार्मेसिस्ट्स और औषधीय विज्ञानी विश्वासी और गुणवत्ता युक्त औषधियों का प्रबंधन करके सामाजिक सुधार करते हैं।

11) फार्मेसी का भविष्य-

फार्मेसी का भविष्य बहुत उज्ज्वल है। यह क्षेत्र तेजी से विकसित हो रहा है और आने वाले समय में और भी महत्त्वपूर्ण होगा। नवीनतम तकनीकी उन्नतियों, औषधीय रसायन, और विज्ञान में वृद्धि के साथ, इसका विकास और महत्त्व और भी बढ़ेगा।

औषधीय विज्ञान में नई और प्रभावी दवाओं की आवश्यकता हमेशा रहती है, और इससे फार्मेसिस्ट्स, औषधीय विज्ञानी, और रिसर्चर्स के लिए अनगिनत अवसर होते रहते हैं।

निष्कर्ष-

Pharmacy kya hai- फार्मेसी एक ऐसा क्षेत्र है जो मानव सेवाओं में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह दवाओं के विकास, उपयोग, और प्रबंधन में गहरा ज्ञान प्रदान करता है। Pharmacy के क्षेत्र में नए औषधियों और तकनीकों के विकास से मानव समाज को और भी स्वस्थ और सुरक्षित बनाने की दिशा में कदम बढ़ाया जा रहा है।

FAQs

1. क्या Pharmacy सिर्फ दवाओं के बेचने के लिए होती है?

नहीं, Pharmacy सिर्फ दवाओं के बेचने के लिए ही नहीं होती। यह एक व्यापक क्षेत्र है जो औषधीय पदार्थों की तैयारी, तथ्य संग्रहण, उनकी अध्ययन और अनुसंधान, दवाओं की तैयारी, उनकी गुणवत्ता नियंत्रण, रोगों की रोकथाम और उनके इलाज में सहायता करता है। इसके अलावा, Pharmacy छात्रों को दवाओं के बारे में सही सलाह देने, सेवाएं प्रदान करने और दवाओं के सही उपयोग की जानकारी देने में भी प्रशिक्षित करता है।

2. क्या Pharmacy में करियर बनाने के लिए सिर्फ साइंस परिचय चाहिए होता है?

नहीं, Pharmacy में करियर बनाने के लिए सिर्फ साइंस का ही परिचय काफी नहीं होता। यहां विभिन्न पहलुओं में जानकारी और कौशल की आवश्यकता होती है। Pharmacy के क्षेत्र में दवाओं की रसायन विज्ञान, उनके प्रभाव, उत्पादन, गुणवत्ता नियंत्रण, रोगी सेवा, और विभिन्न औषधीय विज्ञानों की गहरी समझ और जानकारी की आवश्यकता होती है।

3. Pharmacy में तकनीक का क्या महत्व है?

Pharmacy में तकनीक का बहुत महत्व होता है। यहां तकनीकी ज्ञान के बिना औषधीय पदार्थों का तैयारी प्रक्रिया, उनकी गुणवत्ता नियंत्रण, उत्पादन प्रक्रिया, और उनकी परीक्षण में संज्ञानात्मक बदलाव नहीं लाया जा सकता। नई तकनीकों की समझ, उनके उपयोग की क्षमता, और उनके सही तरीके से अनुप्रयोग करने की क्षमता आवश्यक होती है। इससे न केवल दवाओं की गुणवत्ता में सुधार होती है, बल्कि उनकी प्रभावी उपयोगिता और सुरक्षा भी बढ़ती है।

4. क्या Pharmacy में कोई भी दावा बना सकता है?

नहीं, Pharmacy में कोई भी व्यक्ति आमतौर पर किसी भी दवा को बना नहीं सकता है। दवाओं का तैयारी का प्रक्रिया बहुत संवेदनशील और विशेषज्ञता की मांग करती है। दवाओं की तैयारी में विभिन्न विज्ञान शाखाओं जैसे कि रसायन शास्त्र, जीवविज्ञान, फार्माकोलॉजी, और तकनीकी ज्ञान का प्रयोग होता है।

5. क्या Pharmacy इंडस्ट्री में कोई समस्याएं है?

Pharmacy इंडस्ट्री में कुछ समस्याएं हो सकती हैं जैसे कि दवाओं की कीमतों में वृद्धि, गुणवत्ता के मामले में विश्वसनीयता, और दवाओं की उपलब्धता। इसके अलावा, नई औषधियों के विकास में विरासत का अभाव भी हो सकता है जो किसी नए रोग के उपचार में अड़चन बना सकता है।

Share this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *